क्षेत्रीय विश्लेषण एवं अध्ययन

क्षेत्रीय विश्लेषण एवं अध्ययन

रणनीति

  • क्षेत्रीय विश्लेषण एवं अध्ययन ग्रुप डेरी सहकारी समितियों, संघों, महासंघों एवं एनडीडीबी को राष्ट्रीय नेटवर्क से जोड़ता है, जो सूचना एकत्र करते हैं, उसका महत्त्व बढ़ाते हैं और उसका प्रसार करते हैं।
  • डेरी उद्योग संबंधित बाजार की जानकारी जुटाना।
  • बड़े डाटोबेस को तैयार, संग्रह तथा उनका प्रबन्धन करना।
  • डेरी उद्योग संबंधित सर्वेक्षण तथा डेस्क अध्ययन एवं विश्लेषण करना।
  • वर्ष भर डेरी फार्म की विशिष्ट जानकारी का निरंतर विश्लेषण करना।
  • अंतरराष्ट्रीय डेरी परिदृश्य की अद्यतन जानकारी रखना।
  • नीति नियोजन तथा सही निर्णय के लिए विश्लेषणात्मक जानकारी की उपलब्धता सुनिश्चित करना।
  • बेहतर पशुधन सांख्यिकी और दुग्ध उत्पादन अनुमान को बढ़ावा देना।
  • डेरी क्षेत्र संबंधित भू -स्थानिक विश्लेषण।
  • एनडीडीबी द्वारा प्रबंधित दुग्ध संघों और परियोजनाओं के लिए डाटा तथा आवश्यकता के आधार पर फील्ड की स्थिति का मूल्यांकन तथा निदान करना।

कार्य योजना

1. इंटरनेट आधारित डेरी सूचना प्रणाली का प्रबंधन (आईडीआईएस)

  • व्यापक  ऑनलाइन कंप्यूटर नेटवर्क की मदद से सहकारी संस्थाओं में विभिन्न स्तरों पर निर्णय लेने में मदद करना। यह निम्न स्रोतों से प्राप्त डाटा का विश्लेषण करता है:
  • ग्रामीण डेरी सहकारी समिति
  • जिला दूध उत्पादक संघ
  • विपणन डेरी (मार्केटिंग डेरी)
  • पशु आहार संयंत्र
  • राज्य दुग्ध महासंघ

2. इंटरनेट आधारित डेरी भौगोलिक सूचना व्यवस्था (आईडीजीआईएस)

  • आई-डीजीआईएस एक मजबूत दृश्य उपकरण है जो जीआईएस तथा डेटाबेस को सम्मिलित करता है।
  • इस सिस्टम में प्रदर्शित करने की एक सुविधा है - क) राज्यों, जिलों, तहसीलों और गांवों की भौगोलिक सीमाएं, ख) कस्बों, शहरों के स्थल बिंदु, ग) डीसीएस और डेरी बुनियादी ढांचों (जहां उपलब्ध हो) के स्थल।
  • यह गांव जनगणना कोड के साथ डिजिटल नक्शे पर गांव की उचित पहचान कराने में मदद कर सकता है।
  • दुग्ध संघ / महासंघ के क्षेत्र स्तर की गतिविधियों की निगरानी रखने तथा योजना बनाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है क्योकि इसमें गांव की मानव जनगणना, पशुधन गणना और भूमि उपयोग / भूमि कवर को एकीकृत किया गया है तथा एक ही स्थान पर डिजिटल नक्शे पर उपलब्ध कराया गया है ।
  • एनडीपी-I  के अंतर्गत इसे इच्छुक दुग्ध संघों/महासंघों के उपयोग के लिए इंटरनेट प्लेटफार्म पर उपलब्ध कराया गया है।

3. क्षेत्रीय संबन्धित सूचना आधार

  • मानव जनसांख्यिकी, पशु आबादी, प्रजनन, दूध उत्पादन, गाय और भैंस नस्लों की सूचनाएं तथा उत्पादकता वृद्धि जैसे- प्रजनन, स्वास्थ्य, पोषण इत्यादि के लिए इनपुट, मानकीकरण के लिए समर्थक संसाधनों और सरकारी व्यय इत्यादि संबंधी प्रमुख मानदंडों की पहचान ।
  • भारत में डेरी व्यवसाय वाले प्रमुख राज्यों में पूरे राज्य के साथ-साथ घटक जिलों दोनों में मुख्य मापदंडों के सेट के लिए समय श्रृंखला जानकारी संकलन ।
  • राज्य विशेष में डेरी विकास से संबंधित नीतियों और योजनाओं पर व्यापक लेख तैयार करना ।
  • विषयगत नक्शों, तालुकाओं इत्यादि के माध्यम से संकलित जानकारी की व्यापक प्रस्तुति।
  • राज्य स्तरीय सांख्यिकी डेरी उद्योग संबंधी प्रोफाइलों का प्रकाशन तथा योजनाकारों, प्रशासकों, वैज्ञानिकों, पशु चिकित्सकों, शोधकर्ताओं, छात्रों आदि के उपयोग के लिए सूचनाओं का प्रसारण
  • इस अभ्यास के अंत में, मानकीकृत जानकारी का एक सेट 14 प्रमुख डेरी व्यवसाय से जुड़ें राज्यों में उपलब्ध होगा।

4. राष्ट्रीय डेटाबेस का निर्माण

निम्नलिखित क्षेत्रों की जानकारी एकत्र करना:

  • दूध की आपूर्ति
  • सहकारी समितियों द्वारा राज्य के भीतर तथा राज्य के बाहर दूध का विपणन
  • दूध तथा दूध उत्पाद की खपत
  • डेरी पण्य वस्तुओं के उत्पादन मूल्य, उपभोक्ता मूल्य, निवेश मूल्य तथा अंतर्राष्ट्रीय मूल्य
  • पशुधन अबादी।
  • दूध उत्पादों का आयात और निर्यात।
  • पशु चारे का मूल्य एवं उसकी मांग आपूर्ति की डेटाबेस
  • विभिन वर्ष के मानव जनगणना के डेटाबेस का प्रबंधन
  • कृषि एवं कृषि उत्पादों जैसे दाल, तिलहन, सब्जी, फल, इत्यादि का उत्पादन , उत्पादकता एवं उनकी मांग का डेटाबेस
  • अनुसंधान संस्थान एवं अन्य

5. क्षेत्रीय अध्ययन का संचालन

  • एनडीपी-I के लिए सामरिक पर्यावरण तथा सामाजिक मूल्यांकन (सेसा) के संचालन की सुविधा।
  • दूध उत्पादन और बेचने योग्य अतिरिक्त दूध के बारे में ब्लॉक और जिला स्तर पर जानकारी एकत्र करने के लिए सर्वेक्षण करना। इसका उद्देश्य सगंठित दूध खरीद के लिए ग्रामीण संस्थाओं में बहुलता विकसित करना है।
  • एनडीपी-I के लिए बाहरी निगरानी तथा मूल्यांकन (एम एंड ई) अध्ययन हेतु संदर्भ शर्तें बनाना। साथ ही बाहरी एम एंड ई अध्ययन के लिए नियुक्त सलाहकार को तकनीकी मार्गदर्शन प्रदान करना और उस पर निगरानी रखना।
  • नीति समर्थन के लिए समस्या विशिष्ट और क्षेत्र विशिष्ट जरूरत आधारित विशेष अध्ययन करना। आंतरिक स्त्रोतों द्वारा एनडीडीबी के हित क्षेत्रों से संबंधित नियमित क्षेत्र अध्ययन करना।