भौगोलिक सूचना प्रणाली (जीआईएस)

भौगोलिक सूचना प्रणाली (जीआईएस) 

एनडीडीबी ने इंटरनेट आधारित डेरी भौगोलिक सूचना प्रणाली (आई-डीजीआईएस) विकसित किया है, जिसमें भारतीय पशु आबादी गणना के अनुसार सभी कस्‍बों एवं शहरों सहित देश के लगभग 6 लाख आवासीय गांवों (इसमें देश के प्रमुख दूध उत्‍पादक राज्‍यों के सभी गांव शामिल हैं) में से 5 लाख गांवों से अधिक स्‍थानों तथा विशेषताओं की जानकारी शामिल है ।

आई-डीजीआईएस का प्रयोग एक मजबूत दृश्‍य उपकरण के तौर पर किया जा सकता है । प्रचालन क्षेत्र में गतिविधियों की योजना बनाने के लिए, मानव जनगणना, पशुधन आबादी गणना एवं गांवों की प्रयुक्‍त भूमि/शामिल भूमि को एकीकृत किया गया है तथा डिजिटल मानचित्र पर उसे एक स्‍थान उपलब्‍ध कराया गया है ।

इसलिए, यदि आप एक सरकारी, पशुपालन विभाग/एनडीपी-। के अंतर्गत ईआईए/दूध संघ/उत्‍पादक कंपनी/महासंघ हैं, तो हम आपको आई-डीजीआईएस कार्यक्रम में प्रतिभागिता हेतु आमंत्रित करते हैं । अधिक जानकारी के लिए निम्‍नलिखित पते पर अनुरोध पत्र भेजें: ग्रुप प्रमुख (एसएएंडएस),राष्ट्रीय डेरी विकास बोर्ड, पोस्ट बाक्स सं. 40आणंद – 388001,ईमेल: anand@nddb.coop    

 

दूध संघों के लिए जीआईएस:

एनडीडीबी ने विशेष रूप से दूध संघों के लिए एक कार्यक्रम विकसित किया है जिससे कि वे मुक्त स्रोत साफ्टवेयर क्‍यूजीआईएस (इसे www.ggis.org  से नि:शुल्‍क डाउनलोड किया जा सकता है) तथा जीआईएस डाटाबेस का प्रयोग करके जीआईएस एप्लिकेशन की कार्यक्षमता का उपयोग कर सकें । यह दूध संघ के स्‍तर पर उनके व्‍यवसाय के आंकड़ों का विश्‍लेषण करने की स्‍वतंत्र व्‍यवस्‍था है । यह फील्‍ड आंकड़ा संकलन, प्रसंस्‍करण तथा विश्‍लेषण समेत चरणबद्ध कार्यान्‍वयन कार्यक्रम है ।

एनडीडीबी दूध शेड क्षेत्र के परिचालन जिलों के जीआईएस डाटाबेस को एनडीडीबी तथा दूध संघ के बीच हुए एमओयू के अंतर्गत उपलब्‍ध कराती है । उपर्युक्‍त कार्यक्रमों के कार्यान्‍वयन हेतु यह उपयुक्‍त प्रशिक्षण एवं आरंभिक सहायता उपलब्‍ध कराती है ।

अधिक जानकारी के लिए निम्‍नलिखित पते पर अनुरोध पत्र भेजें:  ग्रुप प्रमुख (एसएएंडएस), राष्‍ट्रीय डेरी विकास बोर्ड, पोस्‍ट बॉक्‍स सं. 40, आणंद – 388001, ईमेल:anand@nddb.coop