एनडीडीबी डेरी उत्‍कृष्‍टता पुरस्‍कार (प्रबंधन उत्‍कृष्‍टता एवं स्‍त्री-पुरूष समावेश)

एनडीडीबी डेरी उत्‍कृष्‍टता पुरस्‍कार (प्रबंधन उत्‍कृष्‍टता एवं स्‍त्री-पुरूष समावेश)

दूध सहकारिताओं ने भारतीय डेरी उद्योग के विकास में महत्‍वपूर्ण भूमिका अदा की है । एनडीडीबी द्वारा संचालित ऑपरेशन फलड कार्यक्रम एवं इन दूध सहकारिताओं के माध्‍यम से किए गए हस्‍तक्षेपों ने भारत को विश्‍व का सबसे बड़ा दूध उत्‍पादक देश बनाया है । ऑपरेशन फलड ने डेरी उद्योग को न केवल सामाजिक एवं आर्थिक परिवर्तन का एक साधन बनाया बल्कि तरल दूध प्रसंस्‍करण, यातायात, पैकेजिंग तथा विपणन में आधुनिक तकनीकी एवं पद्धतियों का भी सूत्रपात किया, साथ ही साथ विभिन्‍न परंपरागत तथा पश्चिमी दूध उत्‍पादों को नवीनता प्रदान की । लाखों छोटे किसानों ने देश के विभिन्‍न भागों में उपभोक्‍ताओं को सुरक्षित दूध आपूर्ति बढ़ाने में योगदान देकर अपनी आजीविका को सुदृढ़ बनाने में सफलता प्राप्‍त की है । सहकारिताओं ने किसानों को लाभप्रद रोजगार उपलब्‍ध कराया है तथा उन्‍हें बाजार के और निकट पहुंचाया है । भारत में 198 जिला सहकारी दूध संघ हैं जिसमें लगभग 1.6 लाख गांव शामिल हैं तथा इसकी पहुंच 1.54 करोड़ दूध उत्‍पादकों तक है जिसमें 44 लाख महिला सदस्‍य शामिल हैं । सामान्‍यत: सहकारिताएं उपभोक्‍ता से कमाए गए रूपये का 75 प्रतिशत किसानों को वापस करती हैं ।

उत्‍पादक कंपनी के रूप में अन्‍य प्रकार के सामूहिक व्‍यापार उद्यम जो  प्रयोक्‍ता सदस्‍यों के स्‍वामित्‍व एवं नियंत्रण में कार्य करती हैं उन्‍हें प्रोत्‍साहित किया किया जा रहा है । उत्‍पादक कंपनियां, सहकारिताओं के समान संस्‍थागत एवं दार्शनिक क्षमता का लाभ लेती हैं तथा साथ ही साथ कंपनी नियम के लचीलेपन एवं स्‍वायत्‍ता के साथ काम करती हैं । उदारीकरण के बाद निजी क्षेत्र ने डेरी उद्योग में अपने संचालनों का तेजी से विस्तार किया है तथा पिछले 15 वर्षों में व्‍यापक क्षमताओं का निर्माण किया है । जबकि निजी क्षेत्र में विकास की संभावना है, आजीविका एवं समावेशी विकास के हित में यह महत्‍वपूर्ण है कि संगठित क्षेत्र द्वारा हैंडल किए जा रहे दूध में (वर्तमान में 50 प्रतिशत) उत्‍पादक आधारित संस्‍थाएं अपने वर्तमान हिस्‍से में बढ़ोतरी करें।   

अतएव, वित्‍तीय, तकनीकी एवं संस्‍थागत सहायता के साथ यह महत्‍वपूर्ण है कि उत्‍पादक आधारित संगठनों को बढ़े हुए जोश के साथ एवं सहकारिताओं के मूल सिद्धांतों एवं मूल्‍यों का पालन करते हुए स्‍थानीय समुदायों के सामाजिक-आर्थिक विकास में निरंतर योगदान देने के लिए  प्रेरित एवं प्रोत्‍साहित किया जाए ।  

उत्‍पादक आधारित संगठनों के प्रयासों को मान्‍यता देने   एवं अपने प्रयासों को भविष्‍य में जारी रखने के लिए प्रेरित करने की दृष्टि के साथ एनडीडीबी ने सर्वश्रेष्‍ठ डेरी सहकारिताओं को उत्‍तम प्रबंधन, किसानों को मूल्‍यवर्धन तथा सामाजिक एवं स्‍त्री-पुरूष समावेश के लिए  ‘एनडीडीबी डेरी उत्‍कृष्‍टता पुरस्‍कार’ प्रारंभ करने का निर्णय लिया है । इस पुरस्‍कार से मानदण्‍ड स्‍थापित होंगे तथा संस्‍थाओं को श्रेष्‍ठ प्रक्रियाओं को अपनाने में मदद मिलेगी तथा इससे उनके व्‍यापारिक क्रियाकलापों को बढ़ाने, परिवर्धित पारदर्शिता लाने, कार्य क्षमता, सामाजिक, आर्थिक एवं स्‍त्री-पुरूष समावेश संबंधी नए तरीके अपनाकर उन्‍हें आगे आने में प्रोत्‍साहन मिलेगा ।
 
आपरेशन फ्लड (ओएफ) के आरंभ से सहकारिता की स्थिति
 
Hindi image
 
महिला सदस्‍यता स्थिति
महिला सदस्‍यता विवरण तथा कुल सदस्‍यता के की तुलना में महिला सदस्‍यता
   वित्‍तीय वर्ष
महिला सदस्‍यता
( ’000) 
कुल सदस्‍यता के तुलना में महिला सदस्‍यता 
2000-01
2013-14  
2316.9
4380.0     
    22%
    29%
 
*अनंतिम

निम्‍नलिखित तीन श्रेणियों के अधीन डेरी सहाकरी संघों/उत्‍पादक कंपनियों को पुरस्‍कार प्रदान किए जाएंगे:-
(अ) बड़े संगठन:   5 लाख लीटर प्रतिदिन से अधिक दूध प्राप्ति ।
(ब) मध्‍यम संगठन: 1 लाख लीटर प्रतिदिन एवं 5 लाख लीटर प्रतिदिन के बीच दूध प्राप्ति ।
(स) छोटे संगठन:   1 लाख लीटर प्रतिदिन से कम दूध प्राप्ति ।
प्रत्‍येक श्रेणी में दो संगठनों को क्रमश: रू. 5 लाख तथा रू. 2 लाख के नकद पुरस्‍कार एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किए जाएंगे ।  
 
महिलाओं के समावेश को प्रोत्‍साहित करने के लिए विशेष पुरस्‍कार
डेरी उद्योग में महिलाओं की भूमिका को मान्‍यता देने एवं डेरी सहकारिताओं में सदस्‍य एवं लीडर के रूप में उनकी  प्रतिभागिता को बढ़ाने तथा उनके आर्थिक समावेश को सुनिश्चित करने के लिए दो विशेष श्रेणी के पुरस्‍कार डेरी सहकारी संघों को प्रदान किए जाएंगे । एक पुरस्‍कार सबसे अधिक संख्‍या में महिला डीसीएस संगठित करने तथा अन्‍य डेरी सहकारिता संघों में सबसे अधिक संख्‍या में कार्यरत  महिला सदस्‍यता वाले संघ को प्रदान किया जाएगा । प्रत्‍येक श्रेणी में रू. 3 लाख की राशि का एक नकद पुरस्‍कार एवं एक प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा ।    
 
इसमें प्रतिभागिता हेतु कृपया दिए गए लिंक पर प्रश्नावली को भरें तथा साफ्ट प्रति ई-मेल nddbaward@nddb.coop पर 28 फ़रवरी 2015 तक अवश्य भेजें ।